Wednesday, August 13, 2014

दोस्ती

जिन्दगी जब आसमान की ऊचाइयों को छू रही होगी,
या फिर किसी ढ़लान से गुजर रही होगी,
तब याद आयेंगे, दोस्तों के साथ बिताये ये अनोखे पल, और उनकी दोस्ती।

दोस्ती, जो डरावने पहलू में साहस है,
दोस्ती, जो टूटे वक्त में हौसला है।

जब खिड़की पे कोहनी टिकाये, चाय की चुस्कियां लेते हुए,
इस जन्नत जैसे जहां को निहार रहे होंगे,
तब याद आयेंगे, दोस्तों के साथ बिताये ये अनोखे पल, और उनकी दोस्ती।

दोस्ती, जो साथ निभाये लहरों की तरह,
दोस्ती, जो जीना सिखाये हवाओं की तरह।

जब आँखे बेवजह ही नम होंगी,
और आंसू गम के नहीं ख़ुशी के होंगे,
तब याद आयेंगे, दोस्तों के साथ बिताये ये अनोखे पल, और उनकी दोस्ती।

दोस्ती, जो रिश्तों को एहमियत दे,
दोस्ती, जो जज्बातों को मासूमियत दे।

जिन्दगी जब आसमान की ऊचाइयों को छू रही होगी,
या फिर किसी ढ़लान से गुजर रही होगी,
तब याद आयेंगे, दोस्तों के साथ बिताये ये अनोखे पल, और उनकी दोस्ती।

No comments:

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद!!!!