Thursday, May 1, 2014

दुनिया से तेज रफ़्तार....

दुनिया से तेज रफ़्तार से मुझे चलना भी है,
गिर गिर राहों में फिर संभलना भी है,

ख्वाहिश आसमानों को छूने की है मगर,
हाथ पकड़ कर तुम्हारा जमीं पे चलना भी है|

No comments:

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद!!!!