Tuesday, November 26, 2013

हुआ बड़ा अचम्भा

बीच राह में खम्बा, हुआ बड़ा अचम्भा,
बेटा बाप से भी लम्बा, हुआ बड़ा अचम्भा |

बुढा सवांर रहा था बाल अपने, आईने में देखकर,
पीछे जवान को देख गंजा, हुआ बड़ा अचम्भा |

कल तक रहते थे यहाँ सब मिलजुल कर,
आज बेवजह दंगा, हुआ बड़ा अचम्भा |

मंदिर में मूर्ति पर ढूध चढ़ा रहे थे सब,
बाहर बच्चा खड़ा नंगा, हुआ बड़ा अचम्भा |

जिनके बच्चों की नौकरी लगी है सिफारिशों पे,
उनकी छत पर तिरंगा, हुआ बड़ा अचम्भा |

No comments:

Post a Comment

आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद!!!!