Thursday, September 5, 2013

मेरे दिल की ये धड़कन है या....

मेरे दिल की ये धड़कन है या तेरे कदमों की आहट है, 
तू चुपके से उतर जा दिल में इस बार ही काफी है । 

नहीं फिक्र अब मुझको कोई जमाने की, 
तू बोल या ना बोल तेरा दीदार ही काफी है। 

1 comment:

  1. भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete

आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद!!!!