Sunday, August 18, 2013

कभी हाथों की लकीरों को....

कभी हाथों की लकीरों को आकार समझने वाला,
आज मुसीबत में अपनी तक़दीर को दोष देता है |

1 comment:

आपकी टिप्पणी के लिए धन्यवाद!!!!